Search
Friday 19 October 2018
  • :
  • :
Latest Update

हिमाचल में बारिश का कहर, मुख्यमंत्री ने की नुकसान, पुनर्वास और बचाव कार्यों की समीक्षा


शिमला| पिछले कई दिनों से हिमाचल प्रदेश में हो रही बारिश से प्रदेश के कई हिस्सों में जन-जीवन अस्तव्यसत हो गया है। सरकारी आंकड़ों अनुसार प्रदेश की लगभग 200 सड़कें बंद और विद्यार्थियों समेत सैकड़ों लोग फंसे हुए है। किन्नौर में वांगतू और टापरी में भूस्खलन से रामपुर-रिकांगपिओ मार्ग अवरूद्ध हो गया है। वहीं, रोहतांग दर्रें पर रविवार को भारी हिमपात के कारण मनाली-लेह मा्र्ग भी अवरुद्ध हो गए थे। शिमला जिले में शिमला-रोहड़ू मार्ग भी कोटखाई व खड़ापत्थर में आए भूस्खलन के कारण बंद रहा। सोमवार दोपहर को सिरमौर में 3.7 तीव्रता का भूकंप भी मापा गया। मौसम विभाग ने आने वाले 24 घंटों में ऊपरी पहाड़ियों में भारी बारिश और बर्फबारी की भविष्यवाणी की है। सरकार ने 25 सितंबर तक चंबा, कुल्लू, सिरमौर, कांगड़ा, कुल्लू और हमीरपुर जिलों में सभी शैक्षिक संस्थानों को बंद करने की घोषणा की है।

बारिश से हुए नुकसान, पुनर्वास और बचाव कार्यों की समीक्षा के लिए मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक का आयोजन
मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक


मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक का आयोजन किया गया जिसमें यह सूचित किया गया कि लाहौल-स्पीति के कोकसर में फंसे 120, मंडी से 23, रोहतांग (कुल्लू) से 31 और फोजल कुल्लू से 33 लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। इनमें 21 लोगों को वायुसेना की सहायता से और 14 लोगों को अन्य साधनों द्वारा सुरक्षित निकाला गया है। बैठक में यह भी बताया कि लाहौल-स्पीति में कोकसर से 45 वाहनों को वापस लाया गया है। चंबा में जवाहर नवोदय विद्यालय चंबा से 600 विद्यार्थियों और शिक्षकों और कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय मैहला से 100 विद्यार्थियों को स्थानांतरित किया गया है।

अतिरिक्त मुख्य सचिव, राजस्व और लोक निर्माण मनीषा नंदा ने पंजाब के राजस्व आयुक्त को भी स्थिति से अवगत कराया तथा उनके साथ चमेरा बांध डाटा साझा किया ताकि पंजाब सरकार द्वारा आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जा सके। इसके अतिरिक्त, चमेरा बांध अधिकारियों को भी पंजाब में ठीं बांध (रणजीत सागर बांध) के साथ अपने बांध से सम्बन्धित डाटा साझा करने की सलाह दी गई है। उपायुक्त चंबा ने पठानकोट के उपायुक्त को आवश्यक एहतियात बरतने को कहा है।

वन मंत्री ने किया कुल्लू-मनाली के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा
वन, परिवहन व युवा सेवाएँ एवं खेल मन्त्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार कुल्लू-मनाली में बाढ़ व बारिश के कारण उत्पन्न स्थित का जायजा लेने के लिए आज प्रशानिक अधिकारियों के एक दल के साथ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। उन्होंने झीड़ी से लेकर कुल्लू-मनाली तक ब्यास नदी के दोनों तटों का दौरा कर बाढ़ व बारिश से हुए नुकसान का भी जायजा लिया।उन्होंने कहा कि बाढ़ व बारिश से प्रभावित क्षेत्रों के लोगों की जान-माल की सुरक्षा प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है, जिसके लिए सरकार व स्थानीय प्रशासन मुस्तैदी से हर संभव कदम उठा रहा है। गोविंद ठाकुर ने लोगों से आग्रह किया है कि वे नदी नालों के समीप न जाएं तथा किसी भी प्रकार का जोखिम न उठाएं। उन्होंने लोगों से खतरे की स्थिति में तुरंत शासन व प्रशासन को सूचित करने की अपील की।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *